कृषि विज्ञान केंद्र सदलपुर द्वारा रामायण गाँव में किसानों के लिए फसल अवशेष प्रबंधन को लेकर आयोजित प्रशिक्षण शिविर में उपस्थित कृषि वैज्ञानिक व प्रतिभागी - Haryana Update-Today Haryana News in Hindi | Bazar (Mandi) Bhav |Weather| jobs | Politics | Crime |

कृषि विज्ञान केंद्र सदलपुर द्वारा रामायण गाँव में किसानों के लिए फसल अवशेष प्रबंधन को लेकर आयोजित प्रशिक्षण शिविर में उपस्थित कृषि वैज्ञानिक व प्रतिभागी

ccshau Chaudhary Charan Singh Haryana Agricultural University   hisar news,hisar news,haryana farmer hindi news today, stuble burning
कृषि विज्ञान केंद्र सदलपुर द्वारा रामायण गाँव में किसानों के लिए फसल अवशेष प्रबंधन को लेकर आयोजित प्रशिक्षण शिविर में उपस्थित कृषि वैज्ञानिक व प्रतिभागी

Hisar News । चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के अंतर्गत कृषि विज्ञान केंद्र सदलपुर ने रामायण गाँव में 50 किसानों के लिए फसल अवशेष प्रबंधन को लेकर एक दिवसीय किसान प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया।

चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय से कृषि वैज्ञानिक अजीत सांगवान ने बताया कि धरती माता हमारा पालन पोषण करती है, हम खेत में पराली को आग लगाकर उसकी छाती में आग लगाने का काम करते हैं। इससे होने वाले धुएं से हमारे पर्यावरण रूपी पिता का मुंह काला होता है। हमें कई संकटों का सामना करना पड़ता है। उन्होंने बताया अक्टूबर व नवम्बर के महीने में पराली जलाने से होने वाले धुँए के साथ ओस की बूंदें मिलकर स्मॉग बना देते हैं। इसके साथ में दशहरे व दीपावली पर जले पटाखों के कारण जहरीली गैस पर्यावरण को दूषित करने के साथ ऑक्सीजन की कमी करती हैं, जिससे साँस लेने में तकलीफ के साथ आंखों में जलन होती है। स्मॉग के कारण सड़क पर दिखाई भी कम देता है, जिसके कारण वाहनों का एक्सीडेंट भी होता है।

पराली जलने से स्वास्थ्य, खेत व फसल में होने वाले नुकसान के बारे में किसानों को विस्तार से बताया गया। किसानों को यह भी बताया गया कि धान की कटाई के बाद मिट्टी पलट हल से जुताई से खेत की उपजाऊ क्षमता बढ़ती है। इस मौके पर जीरो टिलेज मशीन, रोटावेटर के लाभ तथा उपयोग करने की विधि के बारे में भी अवगत करवाया गया। धान कटाई के बाद समय पर सुपर सीडर मशीन द्वारा फसल अवशेषों को खेत में मिलाकर मिट्टी की उपजाऊ शक्ति बढ़ाने के संबंध में भी महत्वपूर्ण जानकारियां दी।

किसानों को यह भी बताया गया कि हेरक व स्ट्रॉ बेलर मशीनों द्वारा गांठ बनाकर आमदनी भी की जा सकती है। कृषि विज्ञान केंद्र के कोऑर्डिनेटर डॉ.नरेंद्र कुमार ने सरकार द्वारा किसानों के लिए चलाई जा रही योजनाओं, मशीनों पर मिल रहे अनुदान, कृषि विभाग के किसान पोर्टल की जानकारी, कस्टम हायरिंग सेंटर के लिए आवश्यक दस्तावेजों के बारे में विस्तार से समझाया।

Search tags:

ccshau Chaudhary Charan Singh Haryana Agricultural University   hisar news,hisar news,haryana farmer hindi news today, stuble burning, Agricultural scientists and participants present in the training camp organized by Krishi Vigyan Kendra Sadalpur on crop residue management for farmers in Ramayan village

हरियाणा की महत्वपूर्ण ख़बरो, बाजार भाव व नोकरियों की जानकारी लिए हमारे व्हाट्सएप्प, टेलीग्राम, इंस्टाग्रामफेसबुक पेज के साथ अवश्य जुड़े।

Place your Advertiesment here

इस सप्ताह में सबसे अधिक पढ़ी जाने वाली ख़बरे

कांग्रेस के प्रदर्शन पर गृहमंत्री विज ने कसा तंज, गाया 'लगा चुनरी में दाग छुपाऊं कैसे, बच जाऊं कैसे'

हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने कांग्रेस के काले कपड़ों में प्रदर्शन करने पर तंज कसा है। अनिल विज…