हरियाणा कैबिनेट: सरकारी भूमि दरों के लिए नीति, ईडीसी शुल्क के लिए नई योजना, सरकारी कार्यालयों के लिए मूल्यांकन मानदंड अनुमोदित - Haryana Update-Today Haryana News in Hindi | Bazar (Mandi) Bhav |Weather| jobs | Politics | Crime |

हरियाणा कैबिनेट: सरकारी भूमि दरों के लिए नीति, ईडीसी शुल्क के लिए नई योजना, सरकारी कार्यालयों के लिए मूल्यांकन मानदंड अनुमोदित

haryana cabinet meeting, Revised scheme for recovery of EDC charges, Haryana Micro and Small Enterprises Facilitation Council Rules, 1-Time Settlement Scheme’ for mining, Affordable Housing Policy, 7th pay panel for NHM contract staff in Haryana, latest haryana hindi news today

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की अध्यक्षता में मंगलवार को हुई मंत्रिमंडल की बैठक में सरकारी कार्यालयों के लिए कार्य मूल्यांकन मानदंड, सरकारी भूमि दरों के लिए एक नीति और लंबे समय से लंबित ईडीसी (बाहरी विकास) की वसूली को सक्षम करने के लिए एक संशोधित 'समाधान से विकास' योजना को मंजूरी दी गई।

मंत्रि-परिषद ने शासन के सभी विभागों, मंडलों, निगमों, पंचायती राज संस्थाओं एवं नगरीय स्थानीय निकायों के लिए प्रदेश में भूमि का बाजार भाव निर्धारित करने की नीति को स्वीकृति प्रदान की है। इस उद्देश्य के लिए मंडलायुक्त, जिला राजस्व अधिकारी, एक विभागीय अधिकारी और अन्य को मिलाकर एक स्थायी समिति का गठन किया जाएगा। हालांकि, निर्धारित अंतिम बाजार मूल्य भारतीय स्टाम्प अधिनियम, 1899 के तहत निर्धारित कलेक्टर दरों से कम नहीं होगा, जहां भूमि स्थित है।

ईडीसी प्रभारों की वसूली के लिए संशोधित योजना

'समाधान से विकास' योजना लंबे समय से लंबित ईडीसी बकाया की वसूली को सक्षम करने के लिए तैयार की गई थी और जुलाई 2020 में कैबिनेट द्वारा अनुमोदित की गई थी। इस नीति के तहत 30 सितंबर, 2021 तक 1,130.13 करोड़ रुपये की राशि वसूल की गई है। अब तक लगभग 14,932.87 रुपये कॉलोनाइजर/डेवलपर्स के पास करोड़ों ईडीसी बकाया है। इन बकाया राशि में से 7,965.17 करोड़ रुपये मूल राशि है जबकि 1,606.43 करोड़ रुपये ब्याज राशि है और 5,361.27 करोड़ रुपये दंडात्मक ब्याज राशि है। इन परिस्थितियों में योजना को 30 सितंबर, 2021 के बाद नहीं बढ़ाया गया।

इससे पहले, जुलाई 2020 में, कैबिनेट ने एकमुश्त निपटान योजना 'समाधान से विकास' शुरू करने का फैसला किया था। इसे केंद्रीय योजना 'विवाद से विश्वास-2020' पर तैयार किया गया था। यह योजना ईडीसी की पूरी बकाया राशि के साथ-साथ ब्याज और दंडात्मक ब्याज के संबंध में लागू थी। पिछली योजना के अनुसार, यदि एक कॉलोनाइजर ने ईडीसी के खिलाफ बकाया मूल राशि का 100 प्रतिशत के साथ-साथ संचित ब्याज और दंडात्मक ब्याज का 25 प्रतिशत राशि 2020 योजना की अधिसूचना की तारीख से छह महीने के भीतर जमा कर दी थी, तो शेष 75 संचित ब्याज और दंडात्मक ब्याज का प्रतिशत माफ कर दिया गया होता।

हरियाणा सूक्ष्म और लघु उद्यम सुविधा परिषद नियम

कैबिनेट ने हरियाणा सूक्ष्म और लघु उद्यम सुविधा परिषद नियम, 2021 को मंजूरी दे दी है। केंद्र सरकार ने सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम विकास अधिनियम (एमएसएमईडी) अधिनियमित किया था। तथापि, विलंबित भुगतान मामलों की सुनवाई के दौरान, सूक्ष्म और लघु उद्यमों ने सरकार द्वारा पारित पुरस्कारों/डिक्री की प्राप्ति में उनके सामने आने वाली कठिनाइयों के बारे में सूचित किया है।

दीवानी न्यायालयों के माध्यम से सूक्ष्म और लघु उद्यम सुविधा परिषद का निष्पादन एक समय लेने वाली प्रक्रिया है, इसलिए, सुविधा परिषद के उद्देश्य को विफल करती है। समय लेने वाली प्रक्रिया से बचने के लिए, सूक्ष्म और लघु उद्यमों ने वसूली के आसान और त्वरित तरीके की मांग उठाई।

तदनुसार, भू-राजस्व के बकाया के रूप में पुरस्कार राशि की वसूली के प्रावधान को शामिल करने के लिए मसौदा नियम 'हरियाणा सूक्ष्म और लघु उद्यम सुविधा परिषद नियम, 2021' तैयार किया गया है। सुनवाई के दौरान उत्पन्न होने वाली कानूनी जटिलताओं / मुद्दों से निपटने के लिए महाप्रबंधक, हरियाणा राज्य औद्योगिक और बुनियादी ढांचा विकास निगम, पंचकूला के स्थान पर न्याय विभाग, हरियाणा के प्रशासन से एक अधिकारी को जोड़कर परिषद की संरचना में भी बदलाव किया गया है। 

खनन के लिए '1-टाइम सेटलमेंट स्कीम'

मंत्रि-परिषद ने राज्य की 'विवादो का समाधान' योजना के तहत राज्य में खनन क्षेत्र से संबंधित मुद्दों को हल करने के लिए राज्य की 'वन टाइम सेटलमेंट योजना' को मंजूरी दी। खनन करने के लिए, अन्य एजेंसियों/विभागों/प्राधिकारियों से कई मंजूरी की आवश्यकता होती है।

"खनन क्षेत्र में बड़ी संख्या में अवरोध पाए जाने के कारण", राज्य ने हरियाणा लघु खनिज रियायत, खनिजों के भंडारण और परिवहन, और अवैध खनन नियम, 2012 की रोकथाम के कुछ संबंधित नियमों में संशोधन करने का निर्णय लिया है।

किफायती आवास नीति

कैबिनेट ने किफायती आवास नीति-2013 में संशोधन को मंजूरी दे दी है। NAREDCO, एक रियल एस्टेट उद्योग परिषद, हाइपर, हाई, मीडियम और लो जोन में फ्लैटों के आवंटन के लिए दरों में 350-500 रुपये प्रति वर्ग फुट की वृद्धि के लिए दबाव डाल रहा है। इन दरों को 2013 में यानी आठ साल से अधिक समय पहले स्वीकृत किया गया था और तब से आवंटन दरों में संशोधन नहीं किया गया है। अत: आबंटन दरों को कम से कम आंशिक रूप से जमीनी हकीकत में समायोजित करने के लिए अफोर्डेबल हाउसिंग पॉलिसी के तहत आवास इकाइयों की आवंटन दरों को केवल 200 रुपये प्रति वर्ग फुट संशोधित करने की मंजूरी दी।

उद्यम प्रोत्साहन नीति

मंत्रि-परिषद ने उद्यम प्रोत्साहन नीति, 2015 के आलोक में औद्योगिक/कृषि क्षेत्र में औद्योगिक कालोनी के विकास हेतु अनुज्ञप्ति प्रदान करने के संबंध में दिनांक 1 अक्टूबर 2015 की नीति में संशोधन के प्रस्ताव को स्वीकृति प्रदान की।

हरियाणा में एनएचएम अनुबंध कर्मचारियों के लिए 7वां वेतन पैनल

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम), हरियाणा के संविदा कर्मचारियों को सातवें वेतन आयोग के कार्यान्वयन के लिए सैद्धांतिक मंजूरी दी।

इस मामले को पहले 11 अगस्त को सीएम की अध्यक्षता में आयोजित राज्य स्वास्थ्य सोसायटी, हरियाणा की आम सभा में उठाया गया था। इस प्रकार बैठक के दौरान प्राप्त निर्देशों के अनुपालन में फाइल को पुन: प्रस्तुत किया गया और स्वीकृति प्रदान की गई।

search tags:

haryana cabinet meeting, Revised scheme for recovery of EDC charges, Haryana Micro and Small Enterprises Facilitation Council Rules, 1-Time Settlement Scheme’ for mining, Affordable Housing Policy, 7th pay panel for NHM contract staff in Haryana, latest haryana hindi news today

हरियाणा की महत्वपूर्ण ख़बरो, बाजार भाव व नोकरियों की जानकारी लिए हमारे व्हाट्सएप्प, टेलीग्राम, इंस्टाग्रामफेसबुक पेज के साथ अवश्य जुड़े।

Place your Advertiesment here

इस सप्ताह में सबसे अधिक पढ़ी जाने वाली ख़बरे

कांग्रेस के प्रदर्शन पर गृहमंत्री विज ने कसा तंज, गाया 'लगा चुनरी में दाग छुपाऊं कैसे, बच जाऊं कैसे'

हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने कांग्रेस के काले कपड़ों में प्रदर्शन करने पर तंज कसा है। अनिल विज…